Facebook ने Metaverse से दुनिया को बदलने जा रहा है

0

अभी हाल ही में दिग्गज सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक में नाम बदलकर अब Meta का लिया है। अब फेसबुक को दुनिया Meta नाम से जानेगी। कंपनी के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग ने 28 October 2021 को इसका एलान किया है। काफी लम्बे समय से फेसबुक का नाम बदलने की चर्चा चल रही थी। मार्क जुकरबर्ग ने कंपनी को नए तरीके से ब्रांडिंग करना चाहते है।

मार्क जुकरबर्ग चाहते है दुनिया इसे सिर्फ सोशल मीडिया न जानकर कुछ अलग पहचान मिल सके। Facebook अपना नाम क्यों बदल दिया है, इसके पीछे क्या कारण है, चलिए जानते है।

Meta नाम Metaverse से बना है, सबसे पहले जानते है की Metaverse क्या है। Real दुनिया में यह कैसे काम करेगा।

Meta क्या है (What is Meta in Hindi)

Facebook का नया नाम अब Meta हो गया है, अब कंपनी के headquarter पर फेसबुक की जगह Meta शब्द लिखा जाएगा, आपको बता दू यह सिर्फ ब्रांडिंग को बदला गया है Facebook App का नाम वही रहेगा। इसके अलावा कंपनी के स्टॉक का नाम अब MVRS हो जायेगा

मार्क जुकरबर्ग ने कहा हम भविष्य के वर्चुअल रियलिटी विज़न (Metaverse) को हासिल करने के लिए हम खुद को री-ब्रांड कर रहे. अब हमारे लिए फेसबुक फर्स्ट की जगह metaverse फर्स्ट होगा। जिस तरह से गूगल की पैरेंटल कंपनी Alphabet Inc है उसी उसी तरह से Meta भी अब पैरेंटल कंपनी होगी जिसके अंदर व्हाट्सप्प, इंस्टाग्राम तथा इसके अंदर जितनी भी कंपनी होगी जब मेटा के अंदर आएगी।

मेटावर्स क्या है (What is Metaverse in Hindi)

Meta का अर्थ है Beyond अर्थात जहां आप नहीं सोच सकते उससे परे।

Verse का अर्थ है Universe अर्थात ब्रम्हांड में जो चीज आप सोच नहीं सकते उससे भी आगे की दुनिया।

Metaverse शब्द को सबसे पहले इस्तेमाल साइंस फिक्शन लेखक नील स्टीफेन्सन ने 1992 में अपने उपन्यास Snow Crash में किया था।

Metaverse से social media, online gaming, augmented reality (AR), virtual reality (VR), cryptocurrencies के पहलुओं को जोड़ती है। एक यैसी विर्चुअल दुनिया जो एक अलग अनुभव प्रदान करेगा और इस नयी दुनिया का नाम Metaverse है।

Metaverse टेक्नोलॉजी से घर बैठे अपने दोस्तों या रिश्तेदारों से 3D इमेज के माध्यम से Face-to-face बात कर सकते है। यैसा लगेगा आपका दोस्त आपके सामने खड़ा होकर बात कर रहा है जबकि वास्तविकता में यैसा नहीं है, यह सिर्फ विर्चुअल दुनिया है।

जिस यूनिवर्स में हम रह रहे है उसकी एक कॉपी बनने जा रही है जो पूरी तरह विर्चुअल होगी यह काम मेटावर्स कम्पनिया करेगी जिसमे फेसबुक कंपनी अपना नाम बदलकर Meta रखा जो विर्चुअल दुनिया की ओर इसारा कर रहा है। मेटावर्स टेक्नोलॉजी में फेसबुक संबसे पहले काम कर रहा है।

मार्क जुकरबर्ग पहले से ही बर्चुअल रियलिटी में भारी निवेश कर रहे है, इसके लिए यूरोप से 10 हजार लोगो को हायर किया गया है जो Metaverse technology पर काम कर सके। अब कंपनी दुनिया के सामने खुद को सिर्फ एक सोशल मीडिया प्लेटफार्म तक सिमित नहीं करना चाहती है।

आज की विर्चुअल रेलिटी में हम सिर्फ आँख और कान का इस्तेमाल करके महसूस कर सकते है, लेकिन अब ऐसे विर्चुअल दुनिया पर काम चल रहा है जो आँख, कान के साथ हम उसे स्पर्श, गंध, स्वाद का भी अनुभव कर सकते है। यानी यैसी दुनिया जहां दूर बैठे लोगो से हम अपने पांचों ज्ञानेद्रियों का इस्तेमाल करके उसे अनुभव कर सकते है।

मान लीजिये शॉपिंग करने आपको कही जाना है तो रियलिटी में बिना उस शॉपिंग माल में गए सामान को टेस्ट करके, टच करके, पूरी तरह से देखकर सामान का घर बैठे आर्डर करके मगवा सकते है। यह सब metaverse technology से संभव है।

अगर आप किसी tourist place पर घूमने फिरने की सोच रहे है तो घर बैठे वर्चुअल तरीके से घूमने फिरने का आनंद ले सकते है जिस तरीके से वास्तविकता (Reality) में घूमने जाते है।

Previous articleWindows 11 Features in Hindi | विंडोज 10 को विंडोज 11 में कैसे upgrade करें?
Next articleUP Government Free laptop Tablet Yojna 2021

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here